एलिआस काइसेडो

मायटोकॉन्ड्रियल विरासत

आज बहुत से वैज्ञानिक मायटोकॉन्ड्रियल हव्वा के बारे में अध्ययन कर रहे हैं,
और वे अब तक उस क्षेत्र को ढूंढ़ रहे हैं जहां मायटोकॉन्ड्रियल हव्वा असल में
मौजूद होती है। मायटोकॉन्ड्रियल हव्वा कहां है?

अंतर्राष्ट्रीय बाइबल सेमिनार, दक्षिण अमेरिका - डबल्यू एम सी प्रधान कार्यालय का अंतर्राष्ट्रीय सभाकक्ष

एलिआस काइसेडो

इक्वाडोर

इक्वाडोर के एसमेरालडस में
राष्ट्रीय स्वास्थ्य विभाग में
मुख्य निर्देशक
चिकित्सक

उस मायटोकॉन्ड्रिया के डीएनए के द्वारा जो सिर्फ माता से पारित होता है, आनुवंशिक परिवर्तन आता है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि माता अपनी संतान को रोग सौंपती है, बल्कि इसका मतलब है कि वह रोग को दूर करने का उपाय देती है। हम भी जीवन देने वाली माता के द्वारा ही अनन्त जीवन पाने का उपाय खोज सकते हैं।

मैं सच में एलोहीम परमेश्वर को धन्यवाद देता हूं जिन्होंने मुझे मायटोकॉन्ड्रियल विरासत शीर्षक पर व्याख्यान देने की अनुमति दी है।

इस शीर्षक के अंतर्गत, मैं समझाऊंगा कि आनुवंशिक परिवर्तन के द्वारा हम किस रोग को खोज सकते हैं और उससे बच सकते हैं, और एक माता जीवन देने में कितना ज्यादा महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

मायटोकॉन्ड्रिया

सबसे पहले, मैं कुछ शब्दों की व्याख्या करूंगा।

जीन
एक जीन एक इकाई है जो आनुवंशिक जानकारी को संग्रहित करती है, और यह एक डीएनए खंड है जिसमें जानकारी होती है कि शरीर की कोशिकाएं कैसे काम करती हैं। इसमें वे तत्व होते हैं जो सूचित करते हैं कि जानकारियां कहां से कहां तक पढ़ी जानी चाहिए, और ये जानकारियां प्रोटीन की संरचना निर्धारित करती हैं।

गुणसूत्र
गुणसूत्र छड़ के आकार का छोटा सा अंग है जहां माइटोसिस और मीयोसिस के द्वारा क्रोमेटिन कोर संगठित किए जाते हैं।

मायटोकॉन्ड्रिया
मायटोकॉन्ड्रिया कोशिका गतिविधि, यानी कोशिकीय श्वसन के लिए अधिकांश ऊर्जा बनाने वाला अंग है।

मायटोकॉन्ड्रियल जीनोम
मायटोकॉन्ड्रियल जीनोम मायटोकॉन्ड्रियल डीएनए भी कहलाता है, और उनका संक्षिप्त रूप एमटीडीएनए या एमडीएनए है। मायटोकॉन्ड्रियल जीनोम क्या है? मायटोकॉन्ड्रियल जीनोम उस मायटोकॉन्ड्रिया का आनुवंशिक पदार्थ है, जो कोशिकाओं के कार्यरत होने की ऊर्जा बनाता है। इसके अलावा, मायटोकॉन्ड्रियल डीएनए अपने आप प्रजनन करता है जब एक ही यूकेरियोटिक कोशिका बंटती है।

मायटोकॉन्ड्रियल विरासत का रहस्य

ज्यादातर आनुवंशिक पदार्थ कोशिकाओं के नाभिक के अंदर गुणसूत्रों में पाए जाते हैं। मायटोकॉन्ड्रिया में मायटोकॉन्ड्रियल डीएनए नामक एक डीएनए की थोड़ी मात्रा शामिल की गई है । उस मायटोकॉन्ड्रिया के आनुवंशिक पदार्थ का परिवर्तन कुछ रोगों का कारण बनता है जो एक विशेष ढांचे के साथ विरासत में पास होते हैं। लेकिन यह परिवर्तन रोगों को पैदा करने की अपेक्षा रोगों को दूर करने का उपाय देता है।

जब अंडाणु शुक्राणु से मिलने के बाद निषेचित होता है, शुक्राणु का केवल नाभिक ही प्रवेश करता है, और उसकी पूंछ और मायटोकॉन्ड्रिया नष्ट हो जाता है। इसके द्वारा हम पुष्टि कर सकते हैं कि केवल माता ही अपना मायटोकॉन्ड्रिया पारित कर सकती है। इस तरह मायटोकॉन्ड्रिया की यह विशेषता है कि यह केवल माता से ही विरासत में मिलता है।

मायटोकॉन्ड्रियल विरासत ने वैज्ञानिकों को 326 सिंड्रोमों, बीमारियों, और मायटोकॉन्ड्रियल जीनोम उत्परिवर्तन से संबंधित विशिष्ट फेनोटाइप खोजने की अनुमति दी है।

मनुष्य के मायटोकॉन्ड्रियल डीएनए में सूक्ष्म विकास के अध्ययन के लिए अनूठी विशेषताएं होती हैं। मायटोकॉन्ड्रियल डीएनए हड्डी में मौजूद होने के कारण मृत व्यक्ति के जीनोम को भी जो बहुत पहले मर चुका है, हम प्राप्त कर सकते हैं। मिसाल के लिए, उत्तर चिली में उत्खनन कार्य किया गया। पुरातत्त्वज्ञों और नृविज्ञानियों ने जिन्होंने ममी का अध्ययन किया, मायटोकॉन्ड्रियल डीएनए के अध्ययन के माध्यम से प्राचीन समय के उत्तर चिली के लोगों के उद्गम का और वर्तमान समय के चिली के लोगों और प्यूर्टो रिको के लोगों के उद्गम का पता लगा लिया।

मेरे कहने का उद्देश्य आपको आनुवंशिक विज्ञान पढ़ाना नहीं है, इसलिए मैंने आपको एक संक्षिप्त स्पष्टीकरण दिया है।

अनन्त जीवन जो परमेश्वर की प्रतिज्ञा है

बाइबल हमें एक बहुत ही महत्वपूर्ण बात, यानी अनंत जीवन की प्रतिज्ञा के बारे में सिखाती है।

और जिसकी उसने हमसे प्रतिज्ञा की वह अनन्त जीवन है।
1यूहन्ना 2:25

हमने परमेश्वर से अनंत जीवन की प्रतिज्ञा पाई है।

हे भाइयो, हम इसहाक के समान प्रतिज्ञा की सन्तान हैं।
गलातियों 4:28

विज्ञान जीवन पाने का रास्ता ढूंढ़ रहा है, लेकिन वास्तव में परमेश्वर हमें अनन्त जीवन देते हैं। 1यूहन्ना 2:25 में लिखा है, “जिसकी उसने हमसे प्रतिज्ञा की वह अनन्त जीवन है। ” तब, कौन अंतिम दिनों में हमें अनंत जीवन देगा?

वह पवित्र आत्मा और दुल्हिन है।

पवित्र आत्मा और दुल्हिन जीवन का जल देते हैं

आत्मा और दुल्हिन दोनों कहती हैं, “… जो कोई चाहे वह जीवन का जल सेंतमेंत ले।”
प्रकाशितवाक्य 22:17

प्रकाशितवाक्य 22:17 कहता है, “आत्मा और दुल्हिन दोनों कहती हैं, ‘आ!’… जो कोई चाहे वह जीवन का जल सेंतमेंत ले।” अब पवित्र आत्मा और दुल्हिन अनन्त जीवन देने के लिए मानव जाति को बुला रहे हैं। यदि हम अनन्त जीवन पाना चाहें, तो हमें अवश्य ही पवित्र आत्मा और दुल्हिन के पास जाना चाहिए। सभी ईसाई जानते हैं कि पवित्र आत्मा पिता परमेश्वर हैं। तब वे कौन हैं जो पवित्र आत्मा और दुल्हिन से जीवन पाते हैं? वे प्रतिज्ञा की संतान हैं।

दुल्हिन जो स्वर्गीय यरूशलेम हमारी माता हैं

वह दुल्हिन कौन है जो अन्तिम दिनों में हमें जीवन का जल देती है? प्रकाशितवाक्य 21:9 में एक स्वर्गदूत ने कहा कि वह दुल्हिन अर्थात् मेम्ने की पत्नी दिखाएगा।

“इधर आ, मैं तुझे दुल्हिन अर्थात् मेम्ने की पत्नी दिखाऊंगा।” … पवित्र नगर यरूशलेम को स्वर्ग से परमेश्वर के पास से उतरते दिखाया।
प्रकाशितवाक्य 21:9-10

दुल्हिन अर्थात् मेम्ने की पत्नी = पवित्र नगर यरूशलेम

उसने दुल्हिन के रूप में स्वर्गीय यरूशलेम को दिखाया। लेकिन यह स्वर्गीय यरूशलेम मध्य पूर्व में स्थित सांसारिक यरूशलेम नहीं है। यह आत्मिक यरूशलेम है, क्योंकि प्रेरित पौलुस ने कहा, “हम आध्यात्मिक शब्दावली में आध्यात्मिक तथ्यों की विवेचना करते है।” तब दुल्हिन कौन है? गलातियों 4:26 कहता है, “ऊपर(स्वर्ग) की यरूशलेम स्वतंत्र है, और वह हमारी माता है।”

ऊपर(स्वर्ग) की यरूशलेम स्वतंत्र है, और वह हमारी माता है।
गलातियों 4:26

यरूशलेम = माता
दुल्हिन = जीवन का जल देने वाली माता

इसलिए स्वर्गीय यरूशलेम हमारी माता हैं जो पवित्र आत्मा की दुल्हिन हैं। हमें दुल्हिन के पास जाना चाहिए जो हमें जीवन का जल सेंतमेंत देने के लिए बुला रही हैं।

माता परमेश्वर जो जीवन का मूल हैं

रोमियों की पुस्तक कहती है कि आदम आनेवाले का चिन्ह है।

… उस आदम, जो उस आनेवाले का चिन्ह है…
रोमियों 5:14

आदम = मसीह

आदम आनेवाले का चिन्ह है। आनेवाला कौन है? बाइबल कहती है कि वह मसीह है। यदि आदम मसीह को दर्शाता है, तो हव्वा जो उसकी पत्नी थी, किसे दर्शाती है?

आदम ने अपनी पत्नी का नाम हव्वा रखा; क्योंकि जितने मनुष्य जीवित हैं उन सब की आदिमाता वही हुई।
उत्पत्ति 3:20

बाइबल के अधिकतर संस्करणों में यदि आप इस आयत की टिप्पणी को देखें, तो इब्रानी शब्द में “हव्वा” का अर्थ “जीवन” है। इसी कारण उत्पत्ति 3:20 में लिखा है कि हव्वा सभी जीवित मनुष्यों की आदिमाता होती है। इसलिए आदम पिता परमेश्वर को दर्शाता है, और हव्वा माता परमेश्वर को दर्शाती है।

आदम = पिता परमेश्वर
हव्वा = माता परमेश्वर

मायटोकॉन्ड्रियल हव्वा की वास्तविकता स्वर्गीय माता हैं

आज बहुत से वैज्ञानिक माता के द्वारा दिए जाने वाले जीन को हव्वा मायटोकॉन्ड्रिया या मायटोकॉन्ड्रियल हव्वा कहते हैं। प्रेरित पौलुस ने कहा कि पृथ्वी की प्रणाली स्वर्गीय प्रणाली की छाया और नकल है। तब, मायटोकॉन्ड्रियल हव्वा की वास्तविकता कौन है जो हमें जीवन देती है? वह माता परमेश्वर हैं जिनसे जीवन उत्पन्न होता है और हम अनंत जीवन प्राप्त कर सकते हैं।

आज भी बहुत से वैज्ञानिक मायटोकॉन्ड्रियल हव्वा के बारे में अध्ययन कर रहे हैं, और बहुत सारे पाठ यह सूचित करते हैं कि मायटोकॉन्ड्रियल हव्वा, हव्वा से उत्पन्न हुई। और वे अब तक उस क्षेत्र को ढूंढ़ रहे हैं जहां मायटोकॉन्ड्रियल हव्वा असल में मौजूद होती है।

लेकिन हम पहले से ही माता परमेश्वर से मिले हैं जो मायटोकॉन्ड्रियल हव्वा की वास्तविकता हैं। मैं उन्हें(आत्मिक हव्वा) जीवन कहता हूं। धन्यवाद!

प्रस्तुतियों के विषय

अंतरिक्ष में जीवन का मूल हमारी स्वर्गीय माता हैआगस्ट हुगो क्रुएसी

माता का प्रेम संतुलन लाता हैपॉल रिचर्ड विलकॉक्स

माता, उद्धार के प्रबंधन के लिए मूल कुंजीजोर्हे माझा

मायटोकॉन्ड्रियल विरासतएलिआस काइसेडो

ऐतिहासिक और मनोवैज्ञानिक दृष्टिकोण से माता परमेश्वर के अस्तित्व की सच्चाईमिगुएल कार्लोस गुटीएरेज